जिनगी खाली पन्ना बा

 



"जिनगी खाली पन्ना बा


न कोरा बा---


ना भरल बा,


बुझाते नइखे कि


कब कइसे का हो गइल


आ लिखे के चहनी त


आँखी के अलोप हो गइल


 


अन्हरिया राती में भी त


भोर के किरकिट


सन अंजोर हो गइल


आ,उठे जब चहनी


त मनवा थोर हो गइल


गोडे- हाथें अब त


आस पियराइल बा


मनवे के बात अब


मन में समाइल बा


 


कइसे कहीं कि


जिनगी में उछाह भरल बा


जिनगी करिया आ


मन उजास भरल बा


कुकूके कोइलर कि


पपीहा तरसावेला


अमवा के बाग में


निमिया रोपायिल बा


 


लिखे चल संगे कि


जिनगी लिखल जाव


मन के विशेख 


अब रूप देहल जाव


बहुत तरसल जिनगी


अब तनी हँसे द


रोए ना पाए अखियां


तनी लोर पोंछे द,,,,,,


★★★★★★


 डा.  मधुबाला श्रीवास्तव 


 


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image