एहसासों का कत्ल कर दिया करते हैं


अच्छा सुनने पर शक करते हैं,
लेकिन बुरा सुनने पर तुरंत
यकीन कर लेते हैं,
कैसे कैसे लोग हैं यहां पर 
छीनकर होंठों से हंसी आंखों में नमी
 दे दिया करते हैं
सिमटना चाहो खुद में तो
पीछे से 
आवाज दिया करते हैं
करके होशियारी
 एहसासों का कत्ल कर दिया करते हैं
सच को झुठलाने से कुछ नहीं होता है
हर अंधेरे के बाद उजाला ही फैलता है
ऐ नियति...
तू कब तक खामोशी से देखेगी ,कब फरेब की
दुल्हन का घूंघट खोलेगी
हर पल, हर लम्हा,हर क्षण पशेमां है जिंदगी
कब रुख हवाओं का सच्चाई की दिशा की
और मोड़ेगी


किरण झा


✍🏼✍🏼 स्वरचित


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image