अभिलाषा विनय ने अपनी पंक्तियों से देश के रक्षकों व शहीद जवानों पर काव्यांजलि पुष्प अर्पित किए

बेसिक शिक्षा विभाग के काव्य समूह "परवाज़-३" के तत्वावधान में, राज्य स्तरीय ऑनलाइन काव्य संगोष्ठी में, अध्यक्ष अब्दुल मुबीन (सहायक निदेशक, बेसिक शिक्षा), विशिष्ट अतिथि भगवती चरण वर्मा के पौत्र श्री चन्द्र शेखर वर्मा, प्रदीप कुमार सिंह (सहायक निदेशक, संयुक्त शिक्षा) की उपस्थिति व अखिलेश पाण्डेय "अखिल" तथा अदील साहब के संचालन में कवयित्री अभिलाषा विनय ने, 
"लुटाई जान माटी पे, न सोचा एक पल को भी।
फ़लक तक गूँजती उनकी कहानी याद करती हूँ।" इन पंक्तियों से हमारे देश के रक्षकों व शहीद जवानों पर काव्यांजलि पुष्प अर्पित किए।                   
         आयोजन में राज्य भर के कवि व कवयित्रियों ने मनोहारी प्रस्तुतियों से सभी का मन मोह लिया।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image