आराधना

नित  करें  आराधना  इष्टदेव का,
सुख  -  शांति   रहेगी   जीवन में,
भय  -   भ्रम    न   होगा    कभी,
शुचिता-पारदर्शिता  रहेगी मन में,
शुचिता -पारदर्शिता  रहेगी मन में,
कष्ट   -  क्लांति   सब   होगी  दूर,
कहते 'कमलाकर' हैं आराधना से,
आंतरिक  आनंद मिलेगा भरपूर।।
     
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image