तुम्हें सोंच कर

 



" जो बात मैंने कही नहीं
सुन ली तुमने वह भी
बरसों पहले की थी जो
सफ़र----
आज भी वहीं खड़ी
साथ तेरे
जज़्बात तेरे
लिए आज भी
सफ़र में हूँ


आने को तो 
 आ गयी थी मैं
पर रुकी आज भी मोड़ वही
हाथ छुड़ा के चले गए थे
साया लिपटा आज भी वहीं
शुष्क को जब उष्ण बनाया
ले जज़्बात वहीं खड़ी
आस पली एक मुद्दत से
सांस थामे वहीं अड़ी


खबर तुझे क्या होगी कभी
करती तेरा इंतजार वहीं
फैलाये बाँहें मैं अपनी
लिपटी रहूँगी
तेरे साये से
जब आओगे
चूम लोगे मेरे अश्कों को
 यही सोचती रहती हूँ
मैं रात भर
जीती रहती हूँ
तुझे सोच कर"
*****
डॉ मधुबाला सिन्हा
अंतरराष्ट्रीय सचिव-
'विश्व साहित्य सेवा संस्थान'
मोतिहारी,पूर्वी चंपारण
9470234816


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image