प्रेम


"सोच रही हूं
खड़ी खड़ी मै 
प्रेम करूंगी
जी भर तुमको
और प्रेम ही
मैं पाऊंगी
प्रेम जगत की
मैं इक पंछी
उन्मुक्त गगन में
उड़ जाऊंगी
प्रेम सत्य है
प्रेम है शाश्वत
ना इससे अब
बच पाऊंगी
कहने को तो
प्रेम पथिक हूं
क्या दूरी तय
कर पाऊंगी
आज लगाया
प्रेम बगीचा
अब मैं इसको
महकाऊंगी,,,,,
    *****
© डॉ मधुबाला सिन्हा
मोतिहारी
23 जून 2020 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image
सफेद दूब-
Image