प्रीत की तलाश है


दिल को प्रीत की तलाश है
मन को  मीत की तलाश है


हसीं   वादियां   हैं   दामन 
मधु  संगीत  की  तलाश है


पंछी   कलरव  करते  रहें
मधुर  गीत  की  तलाश है


हारों   को   गले   लगाया
हमें  जीत  की  तलाश  है


बंदिशों   से  मिले  राहत
नई  रीत  की   तलाश  है


अमूमन  खुशनुमा जहान
सच्ची नीत  की तलाश है


सुखविन्द्र  ने  देखा जहां
जन विनीत की तलाश है
********************


सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
मैंने मोहन को बुलाया है वो आता होगा : पूनम दीदी
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image