मन ठहरा-मन बहता

 



 मन  की  गति अविराम सदा
 गतिमानशतत् भावों संग रहता
 अगणित ख्वाब सजायें उर में 
सुख दुख का आभास है करता।


बहता चंचल निर्झर जैसा
सुख की अनुभूति करता
होते  पूरे  स्वप्न हृदय के
प्रेम भाव की  बहती  गंगा।


सुख का वेग  तरल बन बहता
बहता मन बन सलिल सरस
सावन की रिमझिम फुहार सा 
हर्षित होता मगन मन निर्मल।


काल चक्र की परिधि में उलझा
सुलझाता अनसुलझी उलझन
भरता  उड़ान  गगन छुने की  
 नही ठहरता एक पल चंचल मन


 होकर हताश  खाकर  मात
हो जाता  विरक्त  वैरागी फक्कड़
मन की तंरगो की पकड़ डोर
मन जाता ठहर जैसे शान्त सरोवर।


अविराम  गति मन बाँवरे  की
उड़ता चहुँदिशि जैसे नभचर
विश्राम मात्र प्रभु चरणों मेंहै
बहता मन जाता वही ठहर।


मन्शा शुक्ला
अम्बिकापुर
सरगुजा छ.ग.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image