मन में कपट भरल बा

 



आपन बताके लोगवा,  चाहे करीब रहे,
जेकरा के कहे आपन, चाहे गरीब रहे।
मन में कपट भरल बा, ऊपर से हँस के बोले,
चाहे हमेशा दुःख में,    लसरात रहे ,मरे।।


ओकर स्वभाव अइसन, चाहे ना केहू हँसो,
अंदर से एतना काला, चाहे कि लोग फँसो।
देखे में जेतना सीधा,  अंदर से ओतने टेढ़ा,
चाहे कि लागो फंदा, मौका मिले कि कसो।।


 अखिलेश्वर मिश्रा


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image