"मध्यवर्ग"

गरीबों को मिल जाता है सहारा,
अमीर भी होता है मतवाला 
पिसकर रह जाता है मध्यवर्ग,
न रो सके गरीबों सा
न उछल सके अमीरों सा
मन में झंझावतों को दबाता,
खुद ही दब जाता है मध्यवर्ग।।
गरीबों को मिल जाते हैं भत्ते,
अमीर टैक्स चुकाते हैं
चिलचिलाती धूप में भी
रोजगार तलाशते हैं मध्यवर्ग
गरीब रूखी सूखी खा कर रह जाते हैं,
अमीर ऐशोआराम में जीवन बिताते हैं,
खुद रूखी सूखी खा कर भी 
दूसरों को पकवान खिलता है मध्यवर्ग।।
गरीब रो देते हैं सबके सामने
अमीर अट्ठहास करते हैं
एकांत में अपने अश्रु बहाकर
सबके सामने मुस्कुराता हैं मध्यवर्ग।।
फिर क्यों दिखावे में रह जाता है मध्यवर्ग??


वर्षा शर्मा


           


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image