गीत

 


 



दुनिया मेला है दो दिन का
जीवन पथ ज्य़ों रंगमंच एक 
समय चक्र के हो आधीन
किरदार निभाते हम सब है।
सुख दुख चलते संग साथ साथ
कभी गीत सजें कभी बहतेआँसू
जीवन पथ ज्यो,,,,,,,,,,,,,,,,,,,।


कर्म प्रधान जगत है यह
कर्मो का लेखा जोंखा है
जो किया वही मिल पाता है
बन पाप पुण्य के भागीदार
वैसा ही किरदार निभाना है
जीवन पथ ज्यों,,,,,,,,,,,,,,।


यश अपयश लाभ हानि का मालिक
हम सबका वो  भाग्यविधाता है
हम सब कठपुतली है उसकी
वो सबको नाँच नचाँता है।
ये दुनिया मेला दो दिन का
जीवन पथ ज्यों रंगमंच एक
 समय . चक्र हो  आधीन
किरदार निभाते हम सब है।।


 मन्शा शुक्ला
अम्बिकापुर


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image