गांव मे ही आकर के देखो बहुत सारे काम हैं

हरे हरे यहां खट्टे मीठे सुन्दर रसीले आम हैं,
गांव मे ही आकर के देखो बहुत सारे काम हैं।


भरी दोपहरी चटक धूप मे हवा चले पुरवाई,
थक कर बैठे हुए आदमी पकडे आम की छाईं।
तेजोमय है सूर्य निकलता खुशी भरी वो शाम है,
गांव मे ही आकर के देखो बहुत सारे काम हैं।।


घर पक्के आराम ना दें तो फिर बैठो जाय मढैया,
मन्दिर बगिया छप्पर वाले घर देखो ताल तलैया।
पूरा गांव टहलकर देखो लगेगा यही चारो धाम हैं,
गांव में ही आकर के देखो बहुत सारे काम हैं।।


कवि अमित चौहान
पीलीभीत


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image