दर्द  को   दर्द  से  आराम  बङा  होता  है

 



उम्र  भर  दर्द का  एहसास बङा होता है।
दर्द  ओढ़े क़फन में  ख़ास बङा होता है।।


दर्दे  हालात से  गुज़र कर  देखो  तो ज़रा।
दर्द  को   दर्द  से  आराम  बङा  होता  है।।


झुकता है सर ये दर को समझ कर कावा।
जिस जगह तेरे कदमों का निशां होता है।।


बक़्त खुद व खुद सिखाता है जीना कैसे ।
रंजोग़म कितने भी आ जाये क्या होता है।।


और मत पूछो अब दर्द के हालात मुझसे।
एक जगह हो तो बता दूं कि यहां होता है।।


पुष्प लता राठौर


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image