चेहरे


भीड़ में चेहरे कही खोने लगे।
कुछ दिखाते कुछ छिपाने लगे ।
हुई जुर्म की इंतहाँ देखो ,
आधार पे छप के आने लगे ।
पहचान अब आंसान नहीं ,
परतों में जुर्म छुपाने लगे ।
हसरत भी है अमन चैन हो ,
हो कैसे जब दुश्मन घर आने लगे ।
कर लो अपना दिल पाक साफ़ ,
आइने में चेहरा नज़र आने लगे ।

   सवि शर्मा .....


देहरादून 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image