बेगाना


"रात की गहरी छाया थी
सपनों में अंधियारी थी
कुछ टूटते,कुछ बनते 
अपनों से एक दूरी थी
स्वप्न सलोने कौन ले गया
अपनों से दूर कौन हो गया
जान नहीं पाई कभी मैं
सुख तो अब वीराना हो गया
आस निराश में बदल गया है
प्यार का जादू उतर गया है
अब दिल को समझाए कौन
अपना बेगाना हो गया है
नगर-नगर और डगर-डगर
घूम आयी मैं शहर-शहर
सुख की छंटनी छांट मिली
रहा न अपना कोई रहबर,,,,,,
    ********
© डॉ मधुबाला सिन्हा
मोतिहारी
30 जून 2020 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image