आनंद का भोग कीजिए?


मानव का जीवन प्रमुखतः तीन अवस्थाओं में विभाजित होता है। बाल्यावस्था, युवावस्था एवं वृद्धावस्था। युवावस्था इन तीनों अवस्थाओं में सबसे अधिक गौरवपूर्ण अवस्था होती है। सबसे अधिक जोश एवं ऊर्जा युवावस्था में होती है। इसी अवस्था में शक्ति का प्रवाह व्यक्ति को किसी पायदान पर पहुँचा देता है। कभी-कभी कुछ लोग, अनुभवी लोगों के विचारों को गम्भीरता से नहीं लेते, यह सफलता की राह में आने वाली एक बाधा है। जिस प्रकार स्वच्छंद
बहता जल बाढ़ का रूप ले लेता और बाढ़ तबाही का मंजर खड़ा कर देती, उसी प्रकार हम अपने ज्ञान एवं शक्तियों को किस दिशा में लगा रहे हैं,
महत्वपूर्ण होता है? यदि हममें यह जानने की अभिलाषा है कि जो कार्य हम करना चाहते, उसकी बारिकियाँ क्या है? तबही उसे प्रारंभ करने का साहस करेंगे। इतिहास साक्षी है कि जिज्ञासु प्रवृत्ति के लोग जुझारू होते। वे सरलता से हार नहीं मानते। जैसे- डाॅ0 अब्दुल कलाम कहते थे, कि यदि कोई व्यक्ति छोटे स्वप्न देखता है तो वह गुनाह करता, जीवन को अर्थहीन बनाता है। स्वामी विवेकानन्द, भगत सिहँ, महात्मा गाँधी, मदर टेरेसा, नेपोलियन वोनापार्ट आदि न जाने कितने सफल व महान लोग, जिन्हें हम सर्वथा जीवित पाते, स्मरण करते, क्योंकि इन्होंने अपनी जिज्ञासा के बल पर, सपनों को पूरा करके दम लिया।
कभी-कभी लगता कि हमारे पास साधन नहीं, कैसे कोई कार्य करें?लेकिन संकल्प, आत्मविश्वास दृढ़-इच्छाशक्ति है, हमारे पास। इसलिए किसी क्षेत्र में कार्य करने का सर्वश्रेष्ठ तरीका, उस पर आस्था रखें, और सही मार्गदर्शन से आगे का मार्ग निश्चित करें। कोई व्यक्ति किस परिस्थिति में है... उससे वो स्वयं की इच्छाशक्ति से निकल... मार्ग प्रशस्त कर सकता है क्योंकि सपने अपने लिए हम गढ़ सकते अन्य नहीं। इसलिए संसार में कठिन कुछ भी नहीं यदि हम कमजोर नहीं हैं तो। यदि हम सफलता के स्वप्न नहीं देख सकते, तो फिर अर्थ क्या है हमारे जीवन का?
वस्तुतः अभी समय है, चलिए, विलम्ब मत कीजिए, संघर्ष के लिए तैयार हो
जाइए, जीवन के सच्चे आनन्द का भोग कीजिए। तब हम जान पायेंगे कि संसार का प्रत्येक लक्ष्य, हमारे लिए हो सकता है।


रश्मि अग्रवाल
वाणी अखिल भारतीय हिन्दी संस्थान
बालक राम स्ट्रीट
नजीबाबाद- 246763
(उ0 प्र0)
मो0 न0/व्हाट्सप न0 09837028700
Email. rashmivirender5@gmail.com


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image