ताे तुम फिर किधर जाओगे

 


ए-रूहह तू क्युं ऐसे इतरा कर रहती है


यही कि तेरे पास सब है


अरे पागल मुझ पर उसका हाथ है रखा
जाे तेरे और तेरे जहां का भी रब है . . .!!
***********


तुझे चाहा मुद्दताें तक, की मिन्नतें
ना पता था तन्हा कर जाओगे


अब जहाँ गये हाे गर . . .


वहां भी मिल गये गम
ताे तुम फिर किधर जाओगे . . .!!
***********


जहाँ भी देखूं आतंक से घिरा तहखाना है
निशाना ताे लगाया तूने लेकिन
बच गये हम
पता नहीं तेरा कैसा निशाना है
शायद तू भी मेरा दीवाना है . . .!!
***********


मेरे नशे का यूं हाल है
तुम्हारे चेहरे पर कि . . .
कभी जरूर उताराेगे
लेकिन जाे ग़र मिल गयी निगाहें
ताे निगाहाें से हमें कैसे माराेगे . . .!!
***********


अब तक जाे बितायी उम्र मैंने
उसकाे बेपनाह चाहने में
कि मुहब्बत मुंह जब़ानी कर गया
हर उस काे मार दिया मैंने
जाे मेरे भारत का दुश्मन खानदानी बन गया . . .!!


✍✍✍✍✍✍✍✍
        ---शिवम् पचाैरी
         ज़सराना (फ़िराेज़ाबाद)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image