नवोदियन हैं नाम मेरा 

नवोदियन  है नाम मिला ,खुशियों भरा संसार मेरा
जन्नत जैसी दुनिया पाकर,नवोदय को प्रणाम मेरा
1
बेशक आज  दूर खड़ा हूँ, तुझसे हूँ मैं अन्जान नहीं
तुमने जो बनाया हमको,तेरे सारे हैं अनुमान सही
अरमान हमारे एहसान तुम्हारे,खुशियों के मेले हो
फिर से वो लम्हे आ जाएं, हम सब साथ तेरे हों
आज भी सपने देख रहा,तेरी मिट्टी में हो पग मेरा
पल में उड़ कर आ जाऊँ,गर चल जाए वस मेरा
नवोदियन---------------
2
अरे  अंजानों को साथ मिला कर सुंदर सा उपहार दिया
संग संग रहके दुख सुख सहके बचपन हमने पार किया
साथ बीताए हसीं नजारे इस मंजर में जम से गए
गहरी याद़ों के झरोखे मन मन्दिर में थम से गए
अब भी हम दीवाने तेरे, नवोदय हैं जहान मेरा
स्वर्गतुल्य नगरी नवोदय सुखविंद्र हैं गुलाम तेरा
नवोदियन........
***************


सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image