"नारी"

 



"मैं ,मगरूर नहीं
मजबूर भी नहीं
न लाचार हूँ, और
न गवाँर ही हूँ 


मैं अपनों के बीच 
अपनों के ख़ुशी में
जीने वाली एक
अदना -सी नारी हूँ ।
जो रोज जीती है 
अपनों के लिए,
रहने के लिए
अपनों के बीच में।


भिचती है जो मुट्ठी में
छोटी-छोटी खुशियाँ
खुद को खुश रखने के लिए
जीती है जो हर पल 
दूसरों की ख़ुशी को,
हर गम को ,खुद में समेटे
मुस्कुराती है वह 
दूसरों के लिए हीं।


फिर भी ,मिलती है क्या ?
एक अपनत्व की भावना भी नहीं
एक प्यार की मुस्कान भी नहीं
गैरों की चाहत का पता नहीं
अपने भी तो कभी समझ नहीं पाते


फिर भी जीती हूँ मै
जीऊँगी भी मै 
क्योंकि मैं एक "नारी" हूँ
जहाँ मेरा होना न होना ही है।
फिर भी मैं पूर्ण हूँ
अपने आप में
अपने लिए
अपनों के लिए
अपने "आप"के लिए।
हाँ---
क्योंकि मैं एक नारी हूँ।
      **
      डॉ मधुबाला सिन्हा



  


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image