मुक्तक-

 



भूल पराक्रम भारत का जब,दुश्मन ने ललकारा है।
उसकी ही भाषा में उसको,दिया  जवाब करारा है।
चाहे जितना  शक्तिवान हो ,फर्क नहीं कोई पड़ता,
दुश्मन को उसके ही घर में, घुसकर हमने मारा है।।


सदा  अहिंसा  परमो  धर्मः, नारा  रहा  हमारा  है। 
चाहे जो हो  दुश्मन  पहले ,कभी न हमने मारा है।
आन बचानी होती है जब,प्यारी भारत माता की,
तब दुश्मन को मार गिराना, रहता अंतिम चारा है।।


                  डाॅ बिपिन पाण्डेय


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image