कुछ गीत मैं गाऊं  आज नए

 



नव प्रीत के पल्लव देख प्रिये,
इस मन में प्रतिपल फूट रहे ।
कुछ गीत मैं गाऊं  आज नए,
जो  अधरों  पर  हैं  टूट  रहे ।।


जब तट पर बंसी बाजे तुम   राधा रीत निभा जाना ।
करके मेरा आलिंगन तुम      मेरी शाम सजा जाना ।।
अपने कंकन खनका कर तुम कोई राग सुना जाना ।
तेरी झांझर की रुनझुन से नित,
कितने  घुंघरू     हैं  छूट  रहे ।।


नव प्रीत के पल्लव देख प्रिये,
इस मन में प्रतिपल फूट रहे ।
कुछ गीत मैं गाऊं  आज नए,
जो  अधरों  पर  हैं  टूट  रहे ।।


मनीष कुमार शुक्ल 'मन'
लखनऊ ।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image