काले बादल

 



नीले काले गहरे बादल
प्रकृति का सौंदर्य निराला
कभी लगे चितकबरे बादल
नीले काले .........


कभी गर्जन है कभी तड़पन है
दामिनी मचलने लगी,
ज़ोर शोर से चलती हवायें
मौसम में जादू कपंन है
हाथों से निकला जाए आंचल
कभी लगे........


झूम रही है कैसी लतायें
हर शाखाएं लहरा जाये
फूलों की खुशबू बिखरी है
रात कैसे चमक रही है
बोलो कैसे बचाये दामन।
कभी लगे.........


हरियाली वसुधा पर छाई
झूम -झूम चलती पुरवाई
रिमझिम बारिश की फुहारें
मोतियों सी लगती कतारें,
कली बदली लगती काजल
कभी लगे,.........
कभी लगे.......


स्वरचित पूनम दुबे वीणा


अम्बिकापुर छत्तीसगढ़


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image