ज्ञान


है     मिलता    ज्ञान     तभी     हमें,
जब   प्रबल  इच्छा, जिज्ञासा  रहती,
औ मिट  जाता है  अंधियारा   सारा,
जहाँ जगमग जगमग ज्योति जलती,
जहाँ जगमग जगमग ज्योति जलती,
तम,   अज्ञान    कहाँ   ठहर पाता है,
कहते  'कमलाकर' हैं  विवेक   बिना,
कभी   ज्ञानप्राप्त  नहीं  हो पाता है।।
    
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image