एक_ग़ज़ल

 



उसने जब-जब  कोई   भी पैग़ाम   लिखा  होगा
कोरे   काग़ज़  पर   मेरा  ही  नाम   लिखा होगा


सबने   लिख्खा  होगा   जाने  कितने   ग्रन्थों को
राधा ने  तो  केवल  इक  घनश्याम  लिखा  होगा


उसको  अपना  होश   नहीं  वो   ठहरा   दीवाना
प्यार के  दुश्मन  ने उसको   बदनाम लिखा होगा


नाम   तुम्हारे     लिख्खे   होंगे   उसने  गीत  कई
ख़ुद को गुलचीं औ तुझको गुलफ़ाम लिखा होगा


जाने   उस   बेचारे   की   क्या   होगी    मज़बूरी
पीने की  जो  बात  चली  तो जाम  लिखा  होगा


                                               ब्रह्मदेव बन्धु


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image