दुल्हन

दुल्हन बनना आसान कहां


नए सपने नई उम्मीद होती है
नए रिश्ते नया परिवार होता है
नई आशा नई पहचान होती है
नया पहनावा नई साज होता है


दुल्हन बनना आसान कहां


नई जिम्मेदारी नया संसार होता है
नया परिवेश नया आगाज़ होता है
नया मंदिर नया भगवान होता है
नए घूंघट में सिमटी नववधू होती है


दुल्हन बनना आसान कहां


नए दुल्हन का सौंदर्य नव मुस्कान होता है
नए विवाहित जीवन का शुरुवात होता है
नया ससुराल पुराना मायका होता है
नई लक्ष्मी अब ससुराल की दुल्हन होती है


शिवम् मिश्रा "गोविंद"
मुंबई महाराष्ट्र


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image