दहशत

 



फैल गयी है दहशत चहुँ ओर, 


सूख गए हैं अब नैनों के कोर।
यत्र-तत्र लगे हैं लाशों के ढेर,
नहीं पता कौन अब अगली बेर।


हाथ मिलाने की बात कौन करे,
नजरें मिलाने से भी सब हैं डरे।
ऐसी भयावहता तब भी नहीं थी
जब 'विश्व-युद्ध' की ललकार हुई थी।


मृत्यु के बाद भी शरीर को सद्गति नहीं, 
भय के माहौल में कहीं भी प्रगति नहीं। 
थम गया है जीवन हुआ मुर्दा समान है 
कैदी-सा बंद पिंजरे में, अटकी जान है ।


आज का मंजर कल को इतिहास बनेगा , 
परवर्ती पीढ़ी को सहज विश्वास न होगा। 
ऐसा भयानक दौर भी आया था कभी, 
पूर्वजों से सुनकर तब करेंगे आश्चर्य सभी।। 
                    स्वरचित 
                   गीता चौबे "गूँज" 
                    राँची झारखंड


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image