भूख

 



 


अमीर क्या जाने भूख का अनुभव ।जिनके पेट भरे होते है।
भूख समझते हैं वो बच्चे सपने जिनके रात को रोते।
किस्मत के मारे होते वो  नहीं बिचारे वो होते है।
दो रोटी की खातिर बच्चे दिन भर बोझा को ढोते है।
दो रोटी की खातिर बच्चे छोड़ पढ़ाई बर्तन धोते।
छोटे छोटे बच्चे हमने देखे है भूखे ही सोते।
दर दर सभी भटकते रहते राह में ठोकर खाते रहते।
नन्ही नन्ही हाथ से अपने कठिन परिश्रम बेहद करते।
भूख जी कीमत क्या होती है वो जाने पहचाने उनको
भूख निचोड़े जो सोते है रात रात भर वो रोते है।
भूख की खातिर होते देखी मां की हमने नीलामी
भूख की खातिर किसानों को देखा है चढ़ते फांसी।
भूख की खातिर तन का सौदा तन का ही व्यापार है देखा
बच्चों की रोटी के खातिर हमने होते तन लाचार है देखा
कड़ी परिश्रम करते हैं वो पेट की हवस मिटाने खातिर।
चैन सकूं सब गंवा गंवा  होते इनको मजबूर है देखा।
या तो काम दो या फिर खाना जो इनको जीवन देगा।
भूख के मारे बच्चे सारे जीवन भर गम धोते है।
स्वर्णिम सपने आंख में इनके।रात रात भर रोते है।
मणि बेन द्विवेदी
वाराणसी (उत्तर प्रदेश)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image