भोजपुरी गीत

 



लोर से रोज एगो पाती हम लिखी ले
जिंदगी से पवनी ऊ थाती हम लिखी ले
भोर से लेके राती ले लिखी ले  
लोर से रोज एगो पाती हम लिखी ले।।


मिल गईल सगरो लालसा हमर धूल में
कैसे बजर पर गईल अंचरा के फूल में
जवन बात पढनी  ना कवनो स्कूल में
जिंदगी से रोज ऊहे  बात हम सीखी ले
लोर से रोज एगो पाती हम लिखी ले ।।


ना जाने कैसे छूट गईल नेहिया लाग के
कच्चे धागे पर त कटार गिरल भाग के
दिन भर गुजरल भटकत -भटकत
रात सगरो बीतल अंंखियन में जाग के 
दवा -दुआ कवनो काम ना अब आवेला


नसीब से मिलल ऊ माउर हम चिखी ले
लोर से रोज एगो पाती हम लिखी ले ।।
         आरती आलोक वर्मा ।।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image