औरत कैसे कहलाऊँ... 

 



हर महीने होता
मासिक धर्म
पाँच दिन की पीड़ा
वो चिड़चिड़ापन
वो घबराहट
वो तेज पेट दर्द का होना
तकिये से लिपट 
सुबक-सुबक के रोना


आख़िर क्या है? 
जो औरत को पूरा करता
जिसके लिए
य़ह मासिक धर्म होता 
माँ होने का
दर्जा जो दिलाता
सारी पीड़ा
को सह घर के सारे
काम वो करती
आख़िर - 
एक औरत
कितनी सहनशील होती..!


 अनुभूति गुप्ता


 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image