मन तो बिचारा है सपनों का मारा है

 



सपने बुलाते हैं नौकरी रुलाती है।
जाने की सोचो तो काम ही बताती है।।


मन तो बिचारा है सपनों का मारा है,
बाँधे न बँधता है बिलकुल आवारा है,
नौकरी के नखरे हैं ताने सुनाती है।
जाने की सोचो तो काम ही बताती है।।


कविता मोहब्बत है सर्वस्व अर्पण है,
पर नौकरी मे तो सपनों का शोषण है,
सिर पर चढ़े बैठी हर दम डराती है।
जाने की सोचो तो काम ही बताती है।।


दिल जिद पे बैठा है कविता मे जाना है,
गीतों मे गजलों मे जीवन बिताना है,
नौकरी ईशारे पर जी भर नचाती है।
जाने की सोचो तो काम ही बताती है।।


🤦‍♀©डॉ.शिवानी सिंह


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image