ग़ज़ल

 



श़ज़र की छाँव से अपनी बहुत गहरी सी यारी है,
कि बचपन गोद में जिसके फकत हमने गुजारी है।(1)


जिसे कहते शहर के लोग है किस काम की तू अब,
हमारे गाँव की अम्मा कहानी की पिटारी है।(2)


कि बूढ़ा बाप कैसा हो नही लगता किसी को बोझ,
पढ़ा बेटा नही जिनका पिता का वो पुजारी है।(3)


सुना है बेटियाँ सबकी बहुत सम्मान करती हैं,
मगर मसले यही निकले कि फिर भी वो विचारी हैं।(4)


कलेजे से लगा करके सुनाती लोरी दादी है,
पिता-माता से बढ़कर वो कही बच्चों को प्यारी है।(5)


अदब से पेश आते हैं भले चलना न आता हो,
बुजुर्गो ने हमारे गाँव की पिढ़ियां सुधारी हैं।(6)


बहुत भटका नही पाया कही पर मैने वो जन्नत,
कि रखकर हाथ सर पे जो बुजुर्गो ने दुलारी है।(7)


जरा सा भी अगर तपता हुआ मेरा बदन लगता,
कि पूरी रात माँ बैठी ही सिरहाने गुज़ारी है।(8)


कभी आँखों में जब ख़्वाहिश दिखी पूरा किया उसने,
फरिश़्तों की तरह माँ ने दिलों जां हमपे वारी है।(9)


प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी'
गोरखपुर, उत्तर प्रदेश


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image