ऐ जिंदगी***

 



अपने जीवन की सांझ में मैंने भी इक आस का दीप जला रखा है**
तेरे ही लिये मैं ने इसे जमाने के तूफां से बचा रखा है ऐ जिंदगी**


ढलते रहे अरमां मेरे सांझ के साथ शबनम सी रोती रहीं रातें मेरी**
फिर भी तेरे इंतज़ार में मै ने खुद को बहुत बना रखा है ऐ जिंदगी**
                          ****"उषा शर्मा त्रिपाठी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image