वन्देमातरम

 


~~~~~~~~~~~~~~~~~~
मिरे  यार  मुझसे अब बिछड़ने लगे है।
वक्त  के मानो पाँव यूँ उखड़ने लगे है।।

गुनाहों  के  दौर  में  कोई  हकीम नहीं ।
मेरे  फेंफड़े  तो  बस  सिकुड़ने लगे है।।

तुरपाई  से  सीले  थे रिश्ते जो फुर्सत में।
उनके  भी  धागे  सारे  उधड़ने  लगे  है।।

सर  छुपाया  जाये तो कहाँ  इस  दौर में
हालात  तो  यहाँ  भी  बिगड़ने  लगे  है।।

सफर  की तालीम अपने पराये होते गये।
लोग है कि गैरों की अँगुली पकड़ने लगे है।।
                                  मास्टर लिम्बा जैसलमेर


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image