तलाश के बाद

 



भर जाते होंगे वक़्त के साथ यादों के गहरे जख्म भी ,
भुला देता होगा आसमान भी बूंदों की बेबफाई को तल्खियों के बाद ।


चला जाता होगा पतझड़ का मौसम भी एक समय के बाद ,
भर आता होगा ह्रदय भी समुद्र का नदी से बिछुड़ने के बाद ।


जख्मों का क्या लेना देना वक़्त की रहगुजारियों के साथ ,
चले आते हैं सरपट नहीं देखते उम्र की सीमा रेखा का तनाव ।


छलक जाता है पैमाना भी सब्र का एक उम्र के बाद 
जाने किस दुनिया के होते हैं वो हसीन खूबसूरत अल्फाज ।


आँसूओं की नापाक कोशिशें भी पाक हो जाती हैं 
जिस्म के बदलते हुए खूबसूरत अंदाज की सफेदपोशी के बाद ।


फना हो जाते हैं अक्सर साहिल लहरों की कशमकश में ,
डोर दिलों की खींचते हुए हमउम्र की तलाश के बाद। 



वर्षा वार्ष्णेय अलीगढ़


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image