जीवन का पड़ाव...

 


जन्म" होते ही ,मां की गोद से बड़ा सुकून और कहां...!!
"बचपन" से बड़ा आज़ादी व खुशी और कंहा !!!
"जवानी" से सुंदर, "जीवन" और कहा !!!?


पर, "मध्यवयस्क" बहुत भारी ..!!
इसकी कामयाबी में ही छुपा हैं जिंदगी सारी...।।
जीवन की प्रतिबिंब इसी पड़ाव में नज़र आती।।
कर्म और कर्मफल की तराजू में उलझ जाती नियति...!!


फिर " बुढ़ापा" किसी को खुशियां ,तो किसी को"दर्द" देता।
और "मौत" वक्त_बेवक्त आकर सबसे दूर  ले जाता..!!


और, फिर से  ,"जीवन"  लौट आता ....
एक नया जनम ..,
एक नया चेहरा नज़र आता...🤔


                                                             #मितु_घोष


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image