हाँ  आज तेरे कन्धे से लग कर रोना चाहती हूँ 

 


कडवाहट नासूर जलन  जो मिली
जिन्दगी  में  तोफे के रूप मै
आज उन सब को पिघलाना चाहती हूँ 
हाँ  आज तेरे कन्धे पर सर रख कर रोना चाहती हूँ 

तुझ से मिली बेक़रारी  दुनियाँ  ने दिये गम
एहसास -ए-जज्बात  हुये जिन्दगी  मे कम
आज तेरे कान्धे से लग कर उन्हे खुशी मे बदलना चाहती हूँ 
हाँ  आज तेरे कन्धे से लग कर रोना चाहती हूँ 

मेरी बेबसी मैरी चाहते मेरी ख्वाहिशे 
  मेरी जूत्सजू  मेरी उलफते मेरी बन्दगी 
उन सब को पाना चाहती हूँ 
हाँ आज तेरे कन्धे से लग कर रोना चाहती हूँ 

तेरा कान्धा तेरा प्यार तेरा इजहार-ए इकरार
तेरा साथ हाथो मे हाथ
तसल्ली  से तेरे साथ वक्त गुज़ारना चाहती हूँ 
हाँ आज तेरे कन्धे से लग कर रोना चाहती हूँ 
बस रोना चाहती हूँ 
मीनू


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image