गीतिका

 




चाँद से भी खूबसूरत चाँद 
सी  सूरत   तुम्हारी
हो  गई  अब  तो  जरूरत  चाँद  सी   सूरत   तुम्हारी



तुम  मिले  जब  से  हमारी कल्पना में  सिर्फ तुम हो
रोशनी   सी   साफ   मूरत   चाँद   सी   सूरत   तुम्हारी



जिंदगी के इस गणित के प्रश्न सुलझे आप से मिल
बन ग ई  लो  आज  किस्मत चाँद सी  सूरत  तुम्हारी



जब मिला अपनत्व तुम से बस गई तब से नजर में
पल  रही  बनकर मुहब्बत, चाँद सी   सूरत  तुम्हारी


माँगता  मन्नत  खुदा  से, हर  घड़ी ये  दिल  हमारा
हो  कयामत  तक  सलामत, चाँद सी सूरत तुम्हारी



राधिके  सी  छवि, अधर  पर  शब्द ज्यों स्वर बाँसुरी के
नित  दिखाती  प्रीत  का  पथ, चाँद सी  सूरत  तुम्हारी ।।।।


🙏🌹🙏ममता शर्मा "अंचल"
              अलवर (राजस्थान)
           मो. 722004040


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image