गान शिवा का लहराया जल निर्मल में


जब सांसों ने उथल-पुथल की मनतल में।
सुख-दुख ने तन क्लांत किया मन हरपल में।।


सुमिरन में जब जाप किया शिव शंभू का-
कोलाहल को घोल पिया गंगाजल में।।


ड़ोर पकड़ कर हाथ से मेरे जीवन की-
भोले बाबा खींच रहे पथ दलदल में।।


दो पल का भी चैन नहीं जब दिल पाता-
ख़ास बजाते डमरू मन के दंगल में।।


जो अंदर है वो ही बाहर दुनियां में है
घूम रहे मन गलियां अंखियां चंचल में।


हार गया जब मानव अपनी दिल धड़कन-
ढक लेते है उसको अपने आंचल में।।


जल मे थल मे या हो कोई मरुथल मैं-
सबके मन को पढ़ लेते हैं इक पल में।


मन की धरती पर बोया जब बीज कमल-
गान शिवा का लहराया जल निर्मल में।।
संगीता पाठक


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image