भोले से मैं मांगती बस इतना वरदान

 



दया धरम का वास हो मन में हे भगवान।
भोले से मैं मांगती बस इतना वरदान।। 1


भोले ने सबको दिया इतना सुंदर देह
वैर भाव को भूलकर रक्खो सबसे नेह 2


भोले बाबा की शरण ली जिसने एक बार।
भोले ने खुद ही गहा उसके तन का भार।। 3


भोले से निभाईए सच्चे मन से प्रीत।
भोले बाबा साथ दो बनो हमारे मीत।। 4


भोले ने सबको दिया हर सुख चैन सुकून।
अब तो दिलो दिमाग में उनका बसा जुनून।।5


जब भी अच्छे भाव से करता शिव को याद।
पूरी होती है सदा उनकी हर फरियाद।।6


हर दुख तकलीफ में देता है आराम।
मंत्र भोले नाथ का करता अद्भुत काम।। 7


भोले ने सबको दिया इतना सुंदर बोध।
होता है अफसोस पर खत्म हमेशा क्रोध।।8


सबके अंदर आत्मा पशु हो या इंसान।
अपने भक्तों को दिया भोले ने ये ज्ञान।।9


भोले के दर आ गया फिर तू कहां गरीब।
भूल गरीबी आज से तेरा जगा नसीब।।10


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image