भोले नाथ

 



हे ब्रह्मांड के रचियता,
हे सृष्टि के रचियता।


कई रूप धरते हो तुम,
सबका  मन मोहते तुम।


कभी बनते भोले भंडारी तो,
कभी त्रिनेत्र और तांडवधारी।


कभी भोले भाले रूप से लुभाते,
कभी विकराल रूप से प्रलय लाते।


हर रूप में लगते हो प्यारे,
तेरी महिमा है निराली।


छप्पन भोग से नही दरकार,
भांग धतुर ही प्रिय है तुम्हे।


नाहीं मंदिर नाही देवाला,
तुम्हे शमशान ही भाये है।


राजा भोज से क्या तुम्हे,
जब जीव जन्तु ही मित्र है।


हे जगत के पालनहार,
तेरी महिमा है अपार।


रचनाकार -आशा उमेश पान्डेय
अम्बिकापुर छग
तिथि-20/2/2020


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image