मातृभाषादिवस (21 Feb)—

 


हमरा गावँ, हमरा घर के मातृ भाषा ह भोजपुरी 
हमरा खेत हमरा खलिहान के अभिलाषा ह भोजपुरी 

खून हमरा रग-रग में, बस बहेला भोजपुरी के,
हमार आन-बान-शान,उम्मीद आशा ह भोजपुरी 

हम रहीं चाहे दुनिया के भले कौनो कोना में ,
बाकिर जोड़े हमरा जड़ से वु, लासा ह भोजपुरी 

भाई हो,अपना मातृ भाषा के गजबे होला मिठास 
बोलला सुनला पे लागे ला की बताशा ह भोजपुरी 

खून में बसल भाषा से केहू कईसे होई दूर जी 
जवन सुख-दुःख में आवे काम वु, दिलासा ह भोजपुरी 

अनघा प्यार-दुलार मिले ला एकरा दुनिया भर में,  
बाकिर अपने लोगवा के बेरुखी से, बेदशा ह भोजपुरी 
@नूरैन भाई


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image