मधुशाला


मदमस्त हो मन से झूम है जाता
हो कोई भी पीने वाला।
भूल है जाता जीवन का गम
बस,पीकर इक छोटा सा प्याला।।


कहते है समाज मे सब
है नीच कुकर्मी पीने वाला।
पर,उनको मालूम नही है ,ये!
निश्छल प्रेम मे जीने वाला।।


उन्नीस सौ तैतीस मे हरिवन्श जी के,
शब्दो से थी उठती ज्वाला।
बैर कराते मन्दिर- मस्जिद,
मेल कराती मधुशाला।।


कुछ मधु प्यालो को मिला "रमन"
तू बना डाल जीवन की माला।
जब जन्नत का एहसास यही फिर,
क्यूं ना जाए सब मधुशाला।।
       -नीरज कुमार रमन
         9648767662
         परशुरामपुर सुल्तानपुर


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image