कुंडलियां छंद

 



अपराधी जब खुद करे ,अपना जुर्म कबूल।
कोर्ट कचहरी में बहस,लगती बड़ी फिजूल।
लगती बड़ी फिजूल,व्यवस्था सुदृढ़ बनाओ।
जो भी  करता जुर्म ,उसे फांसी  लटकाओ।
सहती  है  संत्रास , आज   आबादी  आधी।
करते   पापाचार , निडर   सारे   अपराधी।।1


नारी   के  जो  साथ   में , करते  हैं   दुष्कर्म।
ज्ञात नहीं शायद उन्हें,निज संस्कृति का मर्म।
निज संस्कृति का मर्म,कौन उनको समझाए।
जिनकी   कामुक - वृत्ति , घूमते  वे   बौराए।
नर  वे  सभी  कलंक ,बने  जो  स्वेच्छाचारी।
महज  भोग की  वस्तु,नहीं  धरती पर  नारी।।2


               डाॅ बिपिन पाण्डेय


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image