ग़ज़ल

 



मैं  हर  पल  को उजियार करूँ
पापा  -  मम्मी  को  प्यार  करूँ


मानव  -  सेवा   लक्ष्य   हमारा
मैं   कविता   से  इज़हार  करूँ


आँसू   पोंछूँ    रोते    जन   का
मैं  जन - जन का सत्कार करूँ


संघर्ष    करूँ    मैं    राहों    से
मैं   झूट   नहीं   स्वीकार  करूँ


दिल को अपने जला-जलाकर
मैं    अंधेरे    पर    वार    करूँ


सच   से   अपनी  यारी  हरदम
हर  मुश्किल  को  मैं  पार करूँ


नफ़रत  से  लड़ना  मक़सद  है
मैं   प्यार   यहाँ  तलवार  करूँ


कुछ   लोग   यहाँ  पर  ऐसे  हैं
'ऐनुल'  उनको  अख़बार  करूँ


@ 'ऐनुल' बरौलवी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image