वंदना सिंह त्वरित : साहित्यिक परिचय

 



नाम  वंदना सिंह 'त्वरित'
पिता श्री उमाकांत सिंह
माता कुंती देवी
पति विजय कुमार
शिक्षा एम ए , बी एड
शासकीय शिक्षिका के पद पर मिडिल स्कूल में कार्यरत


पैतृक निवास बिहार शरीफ नालन्दा


वर्तमान में मध्यप्रदेश के मण्डला जिले के नैनपुर विकासखंड में निवास है


मुझे कविता लेखन , गजल , गीत कहानी आदि लिखना पसंद है।
अपने माता पिता की सेवा बुजुर्गों की सेवा  आदर व सम्मान करना , यतीम व गरीब बच्चों को स्नेह देना और आर्थिक मदद भी करना पसंद है


 


पर दर्द बड़ा न्यारा होगा


आलोकित पथ के कंत तुम्ही , पथ दुर्गम हो तो क्या होगा !
पथ में काँटे तो होंगे ही , पर दर्द बड़ा न्यारा होगा ।।


अनुमान सत्य ही होता है
परिभषित मन की खाई में
आशाएँ भी तो उठती है
जीवन की नव अंगड़ाई में
तुम साथ चलोगे तो हर पथ , पहले से भी प्यारा होगा।
पथ में काँटे तो होंगे ही , पर दर्द बड़ा न्यारा होगा ।।


कुछ मानव की त्रुटियां ही थी
कुछ प्रश्न बोझ सम लगते थे
साहस की डोरी हल्की थी
कुछ उत्तर मन ही रहते थे
वो उत्तर मन से निकलें तो , अभिमान किनारा ही होगा।
पथ में काँटे तो होंगे ही , पर दर्द बड़ा न्यारा होगा ।।


अपनी रुचियों का त्याग किया
रुचियों को तुम्हारे अपनाई
तब जाकर के सर्वस्व समर्पित
प्यार तुम्हारा पा पाई
उस सत्य प्रेम की वीणा का, रसपान सहारा ही होगा।
पथ में काँटे तो होंगे ही , पर दर्द बड़ा प्यारा होगा ।।


वंदना सिंह 'त्वरित'


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image