उसे तो बियर से प्यार

गुलाबी मौसम की आई बहार


हनी सी मीठापन,रहें होशियार
प्रीत बढ़  रही अधरों  से इतनी
कि कोल्ड क्रीम की हुई दरकार ।


इश्क आशिक़ाना व दिल दीवाना
दिन  में चढ़ रहा, रातों  का खुमार
होंठों पर कॉपी पेस्ट लाली की देख
 बुढ़ापा मचले जैसे दबी राख में अंगार।


  सर्द मस्तानी रात,चाँद लगे जलने
  सूरज  हुआ मध्धम, कमरी पसार
  धड़के जियरा कैसे करे वो इजहार
  सांसे  कहे, उसे तो  बियर  से प्यार ।



       ✍️......सुरेश वैष्णव  भिलाई (छत्तीसगढ़)


Popular posts
सफेद दूब-
Image
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
वंदना सिंह त्वरित : साहित्यिक परिचय
Image
कर्ज संकट की खास योग
Image