सरहदें पार कर गई

 



मेरी मुठ्ठी में बन्द नहीं हो सके 
जो पल
मैं तलाश में उनकी 
सरहदें पार कर गई ।


पहुंच गयी अजनबियों के खेमे में 
अब देनी होती है हर मुस्कान की कीमत ।


असमंजस में हूँ 
हाथ का दीपक रखूँ कहाँ
कहाँ दफन कर दूँ मैं 
अपने युवा स्वप्न ।........................रचना ।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image