पुष्प लता राठौर: साहित्यिक परिचय

 



 पुष्प लता राठौर 
शिक्षा -एम. ए -हिंदी ।एम. ए.-संस्कृत ।
बी.एड।एम . एड।
संगीत -प्रभाकर ।
रूचि -लेखन -कविता .कहानी   संस्मरण ।इत्यादि 
 विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित ।
रेडियो .दूरदर्शन में सक्रिय भागीदारी ।
हिन्दी साहित्य अकादमी पुरस्कार
 शिलांग में नोकरी का अनुभव ।अध्ययन में रुचि ।
नाटक मंचन ।आदि अनुभव


 बेटी का अस्तित्व ।


कोख जब छोङ के दुनिया में माँ की आयी थी ।
थपकियाँ देती फिर जी भर के मां खिलाती थी ।।


नींद से जागकर भी लोरियाँ सुनाती थी ।
गीले कपड़े पलट छाती पे रख सुलाती थी ।।


एक ही कोख से जन्मी हूँ भरम कैसा है ।
भाई और मेरी परवरिश में फर्क कैसा है ।


सोचती रह गई मन का भरम मिटाऊंगी ।
सारी ज़न्नत का सफ़र एक दिन कराऊंगी ।


मां तेरे दूध का वो कर्ज मैं चुकाऊंगी ।
चांद पे जाके एक दिन तुझे दिखाऊंगी ।।


सच्चे सपनों का एक स्वर्ग मैं बनाऊँगी ।
भारत रत्न ले सम्मान घर में आऊंगी ।।


बस यही स्वप्न मेरे दिल कही पलता रहा ।
धान की पौध सा नसीब भी बदलता रहा ।।


बीज के रूप में स्वरूप मेरा खोपा गया ।
उसे उखाड़के अन्यत्र कहीं रोपा गया ।।


मेरा अपना ही घर पराये जैसा लगने लगा ।
भाई दुल्हन सजा डोली उठाके चलने लगा ।।


साल दर साल फिर जीवन उसी में ढलने लगा ।
उसी परिवार में अस्तित्व अपना पलने लगा ।।


स्वरचित पुष्प लता राठौर


Popular posts
सफेद दूब-
Image
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
अभिनय की दुनिया का एक संघर्षशील अभिनेता की कहानी "
Image
बाल मंथन इ पत्रिका का ऑनलाइन विमोचन
Image
अभियंता दिवस
Image