ओह पंजाब मेरा सी


इक वारी सी वंडिआ
ओह पंजाब मेरा सी


जिहड़ा पाकिस्तान बन गिआ,


जान मेरा सी।
ओह टोटे दिलां दे अज वी
बिखरे पये रोंदे,
अद्धे हिंदुस्तान च
अद्धे सरहद पार ने रोंदे।
जमीनां नदियां वंडीयां,
ते जाति धर्म ने वंडे।
साडीआं नदीयां वी सी वंडीआं,
असीं बैठे सतलुज ,रावी, बिआस,कोल
ते ओह जा वसे,
सिंधु,झेलम,चिनाव दे कंढे।
हुण नवीआं हवावां चल्लीआं,
कोई रोको वीरों,
इक सट गहरी भुल्ली नी,
नवीं सट ना टेरो।
खालिस्तान सियासतां ने
 सिरीआं चुकीआं,
नवीआं सट्टां सिर चुके,
ना पिछलीआं मुक्कीआं।
कोई रोको फिरकू आगुआं,
खेल खेडण ने लग्गे,
पिच्छे ऐहना टुरना,
पुत मावां दे मरने अग्गे।
हो सके थे ज़हर ऐह रोकणां,
कम सियासतदानां दे ओही
साडे गरीबां दे चुलिआं ते
सियासत दी रोटी सेकणां।


कौशल बंधना पंजाबी।@
मौलिक।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image