नमी हवा की


 


 


 


बहुत खुश हो के पर्वतों तक
पतंग उड़ा डाली,नमी हवा की


       आँसुओं में पी डाली,बहुत
       मंजर थे स्वप्नों के, माथे पे


लकीरें खोद डालीं,चर्चा सरे आम
था दुःखों के बोझ का,नदी किनारे


       के पत्थरों से नदी रौंद डाली
       किसी बेजान से आत्मा लगा


बैठे वो दोने भर भर आसूओं से
गंगा-यमुना बहा बैठी, बड़ी परि


        -वर्तनशील है जिन्दगी किस    
         छोर जा बैठे खुशी ओ ग़म में    
@सरला धस्माना बैन्डाले 21-11-19


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image